कछुआ और खरगोश की कहानी – Rabbit and tortoise

Rabbit and tortoise : कछुआ और खरगोश की कहानी सालों पुरानी और सच्ची कहानी है | ये कहानी दो दोस्तों के बीच हुई मुकाबला की कहानी है और हम आज जानेंगे कि इस कहानी से हमें क्या शिक्षा मिलती हैं !

बहुत समय पहले एक घने और हरे – भरे जंगल में दो मित्र एक खरगोश और एक कछुआ रहते थे | दोनों एक दूसरे को भाई की तरह मानते थे और जंगल में खुशी से रहते थे परन्तु खरगोश को अपने फुर्तीले होने और तेज (fast) होने पर बहुत ज्यादा घमंड होने लगा था |

अपने इसी घमंड की वजह से जंगल में जो भी दिखता उससे दौड़ (race) का मुकाबला करता और तेज (fast) होने की वजह से खरगोश जीता जाता और दूसरे जीव – जंतुओ को हराने के बाद उन्हें चिढ़ाता और अपने आप को शाबाशी देता | 

अपने घमंड में पूरी तरह से चूर होकर खरगोश एक दिन अपने मित्र कछुआ से मिला और खरगोश ने सोचा क्यों ना आज कछुआ भाई के साथ दौड़ (Race) लगाई जाई | आखिर जितना तो मुझे ही है ये अपने छोटे पैरों से जब तक दौड़ (race) लगायेगा | तब तक मैं यह मुकाबला जीत चूका हूँगा | और आज मुझे अपने दोस्त से अपनी प्रशंसा भी सुनने को मिल जायेगा | यह सोचकर खरगोश ने दौड़ (race) के मुकाबले के लिए अपने दोस्त से पूछा और कछुआ भाई भी सहमत हो गये | 

फिर दूसरे दिन कछुआ और खरगोश (Rabbit and tortoise) दोनों मिले | कछुआ और खरगोश के मुकाबला को देखने के लिए जंगल के सभी एक जगह एकत्र हो गए थे | दोनों के बीच दौड़ (race) का मुकाबला शुरू हुआ | 

खरगोश फुर्तीला होने की वजह से बहुत तेज दौड़ा (running) और बहुत जल्द ही उसने आधे रास्ते पार कर लिया | खरगोश यह सोचकर वही पर थोड़ी देर आराम करने लगा की कछुआ भाई के पैर तो छोटे – छोटे है और उनके आने में बहुत ज्यादा समय लग जायेगा | इसलिए थोड़ा आराम कर लेता हूँ और जब तक कछुआ भाई आयेंगे मैं जल्दी से दौड़ कर मुकाबला जीत जाऊंगा | यह सभी बातें सोचकर खरगोश आराम करने लगा और गहरी नींद में सो गया | 

जब खरगोश की आँखे खुली तो वह चौंक गया | क्योंकि कछुआ को अपने आप पर ज्यादा ही घमंड हो गया था और आँख लगने की वजह से वह मुकाबला हार चूका था और अपनी मेहनत के बल पर और ढृढ़ संकल्प से कछुआ भाई दौड़ का मुकाबला जीत गए | इस तरह से खरगोश का घमंड चूकना -चूर हो गया | 

rabbit and tortoise kahani

शिक्षा : इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है की हमें अपने आप पर भरोसा बनाये रखना चाहिए | चाहे वो कोई भी कार्य हो अगर हम ठान लेंगे की कर सकते है तो उसमें हमारी विजय जरूर होगी | और जो लोग अपने आप पर ज्यादा घमंड करते है उनका घमंड एक दिन जरूर टूटता है |  

आप हमारे Official Telegram Channel से जुड़े …

Read more Best stories :

  1. किसान और उसके चार आलसी बेटे – The farmer and his four lazy son 

  2. The Golden Eggs Hindi Moral Stories – लालची आदमी

 

Leave a Comment