अंगूर खट्टे हैं (Angoor Khatte Hain) ईसप की कहानी

अंगूर खट्टे हैं Aesop Fables Hindi Kahaniyan…

सदियों पहले किसी जंगल एक लोमड़ी रहती थी, जो अंगूर खाने की बहुत ही बड़ी शौकीन थी। एक बार की बात है वह अंगूरों के बगीचे के पास से गुजर रही थी। उसके चारों तरफ स्वादिष्ट और मुँह से पानी निकल जाये जिन्हे देखकर, अंगूरों के गुच्छे चारों तरफ लटक रहे थे। मगर वे सभी अंगूर लोमड़ी की पहुंच से बहुत ही ऊपर थे। लोमड़ी ने अंगूरों को देखा तब से उसके मुंह में बार-बार पानी भर आता।  Angoor Khatte Hain Hindi kahani…

 

लोमड़ी अपने मन में सोचने लगी-‘वाह ! कितने अच्छे,सुंदर और मीठे अंगूर हैं। काश की मैं इन्हें तोड़कर खा सकती।’ यह सोचकर लोमड़ी ने कई बार उछल-उछल कर अंगूरों के गुच्छों तक पहुंचने की कोशिश करने लगी। मगर वह प्रत्येक बार नाकाम हो जाती। लोमड़ी, अंगूर के गुच्छे उसकी पकड़ से कुछ ही दूर रह जाते थे।

 

अंत में जब बेचारी लोमड़ी उछल-उछल कर पूरी तरह से थक गई और हाथ में नहीं आने पर थक गई और अपने घर की ओर चल दी। अंगूर नहीं मिल पाने पर जाते-जाते उसने सोचा—‘शायद ये अंगूर खट्टे हैं। इन्हें पाने की चाह में अपना समय नष्ट करना ठीक नहीं होगा !’

 

शिक्षा – जब कोई मुर्ख किसी वस्तु को अपना नहीं बना पाता तो उस वस्तु को तुच्छ दृष्टि से देखने लगता है।

1 thought on “अंगूर खट्टे हैं (Angoor Khatte Hain) ईसप की कहानी”

Leave a Comment